Slideshow Image Script
 
गुरूर्ब्रहमा गुरूर्विष्णु। गुरूर्द्रेवो महेश्वीर: ।
गुरू: साक्षात् परम् ब्रहम तस्मैद श्री गुरवेनम:।।
’ विद्ययाडमतमश्नु्ते ‘
ऊँ सह नाववतु । सह नौ भनक्तु‘ ।
सह वीर्यं करवावहै ।
तेजस्विना वधीतमस्तुत मा विद्धिषाव है ।।
ऊँ शान्ति : । शान्ति : । शान्ति : ।
आ नो भद्रा क्रतवो यन्तु विश्व।त: ।
न चौरहार्यं न च राजहार्यं न भ्रातभाज्यं न च नित्य मेंव ।
व्य्ये कते वर्दते नित्य मेव विद्याधनं सर्वधनप्रधानम् ।।
             SSR of the college has been uplodad     .....Click here

 

महाविद्यालय मोनोग्राम  

 

 

महाविद्यालय के मोनोग्राम हेतु बर्षो से आकाक्षा एवं कल्‍पना उडान भर रही थी । प्रज्ञा  के प्रकाशन के संग आप सभी के समक्ष प्रस्‍तुत किया जा रहा है । मोनोग्राम में नीले,हरे,पीले,नारंगी एंव भूरे (मिटटी) रंग का प्रयोग किया गया है ।

नीला रंग आकाश की भांति अनन्‍त संभावनाओं का प्रतीक है हरा रंग छात्राओं को पर्यावरण के प्रि‍त सजग रहने व उसकी रक्षा करने का संदेश देता है । मोनोग्राम में तीन शंख हैं तो अमन-चैन  और भाई-चारा का संदेश देते हैं ।साथ ही महाविद्यालय मे चल रहे तीनों संकायों क्रमश: कला, विज्ञान और वाणिज्‍य का भी प्रतीक सवरूप है। मोनोग्राम के मध्‍य में मिटटी का प्रज्‍ज्‍वलित दीपक है ।यह दर्शाता है कि महाविद्यालय मे ज्ञान की लौ सतत् प्रज्‍ज्‍वलित है। दीपक का भूरा रंग बतलाता है कि छात्राऍ मिटटी के दीनक के समान हैं जो इस शिक्षण संस्‍थान में आकर मेघा के प्रकाश से  प्रकाशित होती हैं । प्रकाश नारंगी रंग ज्ञान का धोतक है। महाविद्यालय का नाम पीले रंग सं है जो इस संस्‍भान की गरिमा बौर महत्‍ता को दर्शाता है।

कुल मिलाकर महाविद्यालय के पवित्र उद्धेश्‍य एंव इसकी शुभाकांक्षा को इस मोनोग्राम के माध्‍यम से संप्रेषित करने का लक्ष्‍य रखा गया है। यह छात्राओं को अपने महाविद्यालय के प्रति गौरवान्वित होने और इसकी प्रतिष्‍ठा को उत्‍रोत्‍र नई उचाई प्रदान करने के लिए प्रेरित करेगा।

इस सजन के लिए महाविद्यालय की वरीय व्‍याख्‍याता (सस्‍कत विभाग ) डॉ0 श्रामती महाश्‍वेता महारथी प्रशंसा की पात्र हैं।उनकी कलात्‍मह अभिरूचि इस मोनोग्राम की रचना में  श्रेष्‍ठ रूप में प्रदर्शित हुई है।

उषा यादव

Copyright @ Govt.Women's College,Gulzarbagh

Designed by :-   Logicopedia

Home | About Us | Contact Us